रेपो रेट लगातार दूसरी बार 5.15% पर स्थिर; 2020-21 में 6% जीडीपी ग्रोथ का अनुमान

By | February 8, 2020

मुंबई. आरबीआई ने इस बार भी रेपो रेट में बदलाव नहीं किया। इसे 5.15% पर बरकरार रखा है। खुदरा महंगाई दर मेंबढ़ोतरी और भविष्य में अनिश्चितताको देखते हुए आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति के सभी 6 सदस्यों ने ब्याज दरें स्थिर रखने के पक्ष में वोट दिया।तीन दिन की बैठक के बाद आरबीआई ने गुरुवार को फैसलों का ऐलान किया। रेपो रेट के अलावा अन्य दरें भी स्थिर रखी हैं। रिवर्स रेपो रेट 4.90% पर बरकरार रखा है।दिसंबर की बैठक में भी ब्याज दरोंमें कोई बदलाव नहीं किया था।इससे पहले लगातार 5 बार कटौती करते हुए रेपो रेट में 1.35% कमी की थी।आरबीआई ने अगले वित्त वर्ष (2020-21) में जीडीपी ग्रोथ 6% रहने का अनुमान जारी किया है। चालू वित्त वर्ष (2019-20) में 5% ग्रोथ का पिछला अनुमान ही बरकरार रखा है।

अगले वित्त वर्ष की पहली छमाही में खुदरा महंगाई दर का अनुमान 0.30% बढ़ाया

अवधि महंगाई दर अनुमान
जनवरी-मार्च 2020 6.5%
अप्रैल-सितंबर 2020 5.4%-5% (पिछला अनुमान 5.1%-4.7% था)
अक्टूबर-दिसंबर 2020 3.2%

अकोमोडेटिव आउटलुक बरकरार

कच्चे तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव को देखते हुए दूध और दाल जैसी वस्तुओं के रेट बढ़ सकते हैं। इसे ध्यान में रखकर आरबीआई ने महंगाई दर का अनुमान बढ़ाया है। हालांकि, दिसंबर के उच्च स्तर (7.35%) से नीचे आने की उम्मीद जताई है। आरबीआई ने कहा कि चालू तिमाही में नई फसल आने से प्याज की कीमतें घटने के आसार हैं।आरबीआई नीतियां बनाते समय खुदरा महंगाई दर को ध्यान में रखता है। मध्यम अवधि में आरबीआई का लक्ष्य रहता है कि खुदरा महंगाई दर 4% पर रहे। इसमें 2% की कमी या बढ़ोतरी हो सकती है। लेकिन, दिसंबर में यह 6% कीअधिकतम रेंज से भी ऊपर पहुंच गई। आरबीआई ने मौद्रिक नीति को लेकर इस बार भी अकोमोडेटिव नजरिया बरकरार रखा है। इसका मतलब है कि रेपो रेट में आगे कटौती संभव है।

आर्थिक विकास दर बढ़ाने के लिए3 फैसले
1. बैंकों को ज्यादा कर्ज बांटने की छूट :बैंकों को अपनी कुल जमा राशि का 4% हिस्सा आरबीआई के पास रखना होताहै। इसे कैश रिजर्व रेश्यो (सीआरआर) कहा जाता है। आरबीआई ने कहा है कि बैंक छोटे-मध्यम उद्योगों, ऑटो और होम लोन सेगमेंट में कर्ज की रकम बढ़ाते हैं तो बढ़ाई हुई रकम को घटाकर सीआरआर की गणना कर सकते हैं। यह छूट 31 जुलाई 2020 तक रहेगी।

2. छोटे-मध्यम उद्योगों केकर्ज की रिस्ट्रक्चरिंग स्कीम की डेडलाइन 9 महीने बढ़ाई :आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दासने कहा कि सरकार के सुझावों के मुताबिक छोटे और मध्यम कारोबारियों के कर्ज की वन टाइम रिस्ट्रक्चरिंग की समय सीमा मार्च 2020 से बढ़ाकर दिसंबर 2020 तककरने का फैसला लिया गया है।

3. रिएल एस्टेट सेक्टर को राहत :कमर्शियल रिएलिटी लोन वालेप्रोजेक्ट शुरू करनेमें देरी की वजह वाजिब हुईतो उन कर्जों को डाउनग्रेड नहीं किया जाएगा। हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों के लिए संशोधित नियमों का ड्राफ्ट 29 फरवरी तक जारी किया जाएगा।

छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में सामंजस्य की जरूरत

दास ने कहा किब्याज दरों को रेपो रेट जैसे बाहरी बेंचमार्क से जोड़ने से लोगों को मौद्रिक नीति का ज्यादा फायदा मिल रहा है। छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में सामंजस्य की जरूरत है। आरबीआई की पॉलिसी से कुछ दिन पहले ऐसी रिपोर्ट आई थी कि सरकार छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में कमी कर सकती है।

ग्रोथ बढ़ाने के लिए ब्याज दरों के अलावा दूसरे उपाय भी हैं: आरबीआई गवर्नर
जीडीपी ग्रोथ में कमी को देखते हुए यह उम्मीद की जाती है कि आरबीआई प्रमुख ब्याज दर रेपो रेट में कटौती करे। ताकि कर्ज सस्ते हों तो मांग बढ़े और आर्थिक विकास दर में तेजी आए। आरबीआई ने पिछले साल लगातार 5 बार रेपो रेट घटाया भी था, लेकिन खुदरा महंगाई दर में इजाफे को देखते हुए लगातार दूसरी बार रेपो रेट स्थिर रखा है। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि इकोनॉमिक ग्रोथ को बढ़ावा देने के लिए ब्याज दरों के अलावा दूसरे तरीके भी हैं। ग्रोथ बढ़ाने के लिए जब तक जरूरी होगा तब तक अकोमोडेटिव आउटलुक रखा जाएगा।

कोरोनावायरस के असर से निपटने के लिए आकस्मिक योजना जरूरी
आरबीआई गवर्नर ने सरकार को सुझाव दिया है कि अर्थव्यवस्था पर कोरोनावायरस के संभावित असर को देखते आकस्मिक योजना तैयार कर लेनी चाहिए। वायरस का संक्रमण फैलनेकी वजह से पर्यटकों की आवाजाही और अंतरराष्ट्रीय व्यापार प्रभावित होगा। इसकी वजह से जनवरी के आखिर में शेयर बाजारों में बिकवाली हुई और कच्चे तेल की कीमतों में भीगिरावट आई थी।

सरकार को वित्तीय घाटे से निकालने के लिएकोई कदम नहीं उठाएंगे
दास ने कहा कि सरकार के वित्तीय घाटे के लक्ष्य में बढ़ोतरी की भरपाई के लिए आरबीआई की कोई योजना नहीं है। आरबीआई करंसी प्रिटिंग भी नहीं बढ़ाएगी। सरकार ने बजट में घोषणा की थी कि चालू वित्त वर्ष में वित्तीय घाटे का लक्ष्य बढ़ाकर 3.8% किया जाएगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


RBI Repo Rate | RBI Monetary Review Policy February 2020 Today Latest News and Updates On Repo Rate, GDP Growth Rate, Repo rate

Share it

Thanks you for visit.