पोर्टफोलियो में मिड और मल्टीकैप के साथ स्मॉलकैप भी शामिल करें

By | January 12, 2020

यूटिलिटी डेस्क. 2020 एक नए साल के रूप में ही नहीं, बल्कि एक नए दशक के रूप में भी शुरू हुआ है। जिस किसी ने एक दशक पहले 2009-2010 में म्यूचुअल फंड में निवेश किया होगा तो उसे अब अच्छा खासा रिटर्न मिल रहा होगा। यही बात मौजूदा समय में भी सही है। एक निवेशक के तौर पर आपको सुरक्षित और बेहतर रिटर्न के लिए म्यूचुअल फंड का रास्ता अपनाना चाहिए। एक निवेशक के तौर पर आपको अपने कोर पोर्टफोलियो में मिड और मल्टी कैप के साथ स्मॉल कैप फंड को भी शामिल करना चाहिए।

2018 के बाद मिड और स्मॉल कैप फंड अंडरपरफार्म रहे थे। अब इनमें तेजी आनेकी संभावना है। 2017 में जहां यह निफ्टी के मुकाबले 40% प्रीमियम पर कारोबार कर रहे थे। अब इनमें 10% डिस्काउंट पर कारोबार हो रहा है। फिलहाल ऐसा नहीं लगता कि मिडकैप फंड लार्ज कैप को ज्यादा समय तक अंडर परफॉर्म करेंगे। केंद्र सरकार एक फरवरी को आम बजट में कुछ ऐसी घोषणाएं कर सकती है जिससे बाजार को मदद मिले। सरकार ने आर्थिक सुधारों का जो कार्यक्रम चलाया है वह आगे भी जारी रहेगा। इसके अलावा आमदनी बढ़ने की रफ्तार में सुधार, लिक्विडिटी में सुधार से मिड और स्मॉल कैप के क्वालिटी वाले स्टॉक में तेजी आ सकती है।

एसआईपी केजरिए करें म्यूचुअल फंड में निवेश
एसआईपी के जरिए आप 100 रुपए महीने से निवेश शुरू सकते हैं। जनवरी- नवंबर 2019 के दौरान म्यूचुअल फंड में एसआईपी से 90,094 करोड़ का निवेश आया। यह सालाना आधार पर 12% अधिक है। एम्फी के मुताबिक, इस वित्त वर में हर महीने औसतन 9.55 लाख नए एसआईपी खाते खुले। इनका औसत साइज प्रति एसआईपी 2,800 रुपए रहा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Include midcap and multicap in the portfolio as well as smallcap

Share it